in

एसएसबी ने मानव संसाधन विकास एवं नागरिक कल्याण कार्यक्रम का किया

वाल्मीकि नगर से अभिमन्यु कुमार गुप्ता की रिपोर्ट।

शनिवार की शाम एसएसबी 21वीं वाहिनी द्वारा सीमा चौकी चकदहवा के प्रांगण में मानव संसाधन विकास एवं नागरिक कल्याण कार्यक्रम के तहत सिलाई कढ़ाई प्रशिक्षण, घरेलू बिजली उपकरण मरम्मत एवं एयर कंडीशनर मरम्मत प्रशिक्षण से लाभान्वित प्रशिक्षुओं को एकत्रित किया गया। तथा श्री प्रकाश कमांडेंट 21 वी वाहिनी बगहा के द्वारा इन प्रशिक्षण से वर्तमान में हो रहे लाभ के बारे में प्रतिक्रिया ली गई। सर्वप्रथम प्रशिक्षुओं ने 21वीं वाहिनी सशस्त्र सीमा बल का इस प्रकार के कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षण देने के लिए धन्यवाद किया। तथा निम्न प्रतिक्रिया दी गई।

सिलाई कढ़ाई प्रशिक्षु प्राप्त लड़कियां और महिलाएं के द्वारा बताया गया कि रोजमर्रा तथा महंगाई के दौर में सिलाई कढ़ाई से प्रतिदिन तीन सौ से तीन सौ पचास अर्जित करती हैं। तथा कुछ महिलाओं और लड़कियों के द्वारा बताया गया, कि सिलाई मशीन उपलब्ध ना होने के कारण सिलाई का कार्य पड़ोसी के घरों में जाकर जहां सिलाई मशीन उपलब्ध है। वहां सिलाई का कार्य करती हैं ।उनके द्वारा बताया गया,कि सिलाई मशीन जल्द से जल्द खरीदने के प्रयास में है

घरेलू बिजली एवं उपकरण मरम्मत प्रशिक्षु के द्वारा बताया गया,कि वर्तमान में नजदीकी गांव की घरेलू वायरिंग का कार्य कर रहे हैं।तथा कई प्रशिक्षुओं ने नजदीकी चौक चौराहे पर अपनी दुकान के माध्यम से बिजली उपकरण एवं मरम्मत का कार्य कर रहे हैं।प्रतिदिन तीन सौ से चार सौ तक आमदनी कर रहे हैं। एवं साथ ही साथ अपने व्यवसाय को बढ़ा रहे हैं। तथा उनके द्वारा बताया गया कि उनके साथ प्रशिक्षण प्राप्त प्रशिक्षु देश के अन्य बड़े शहरों में बिजली मरम्मत से संबंधित रोजगार कर रहे हैं।एयर कंडीशनर मरम्मत प्रशिक्षु के द्वारा बताया गया,कि उनका क्षेत्र शहरी नहीं होने के बावजूद भी जरूरत के हिसाब से एयर कंडीशनर मरम्मत कार्य कभी-कभी करते हैं।तथा चार सौ से पाच सौ की आमदनी हो जाती है।इस प्रशिक्षण से प्राप्त प्रशिक्षु भी अन्य बड़े शहरों में एयर कंडीशन मरम्मत से संबंधित रोजगार कर रहे हैं l

इस अवसर पर कमांडेंट श्री प्रकाश,21वीं वाहिनी बगहा,सहायक कमांडेंट वंश दीप माजी,दीपेश कुमार पाण्डेय,दीपक राव (रामा टेक्निकल इंस्टीट्यूट बगहा), स०उप नि०(संचार) एस० पी० सिंह,आरक्षी(सा०) अभय कुमार, प्रशांत कुमार के अलावा भारी संख्या में प्रशिक्षु व ग्रामीण मौजूद थे।

The views and opinions expressed by the writer are personal and do not necessarily reflect the official position of VOM.
This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

What do you think?

Written by ChandraB.

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading…

0

Comments

0 comments